Saturday, 4 February 2017

स्वार्थी औलाद के नाम
न भेजो हाशिये पर
माँ बाप तुम्हारी छत है
बनाओ न इनमे झरोखे 
यह छत ही आसमां है
तुम्हारे पंख, इन्हीं की देन
न करों इन्हे बेसहारा
 आईना हैं यह तुम्हारा
प्यार में स्वार्थ न घोलो
सुबकुछ तो है तुम्हारा
भूल गए तुम, आखिरी सीढ़ी
दहलीज़ की, तुम्हें भी तो छुएगी
फिर भी माँ के मुख से
बददुआ तो न निकलेगी
इनकी आंसुओं की आहों का सफर
तुम्हारी जिंदगी को पलटने में
 उतना ही समय लेगा
जितना कि-
''दिन'' को ''शाम'' में बदलने में-
यानि
'''''एक पल'''''
रह जाएंगे पास सिर्फ सन्नाटे
सन्नाटों के डर से बचो, चेतो
अपने आइनों को प्यार करो
कोख का सम्मान करो
एक बार रामायण पढ़ लो
पढ़ते-पढ़ते राम-सीता को जी लो
फिर देखो, पूरा का पूरा आसमां
होगा सिर्फ तुम्हारा
माँ बाप तो छत है
न भेजो हाशिये पर
न करों इन्हे बेसहारा
 आईना हैं यह तुम्हारा

No comments:

Post a Comment